Withering Values

Off late there has been many attacks on doctors in various parts of the country. It needs thorough analysis. The causes of such incidents are examined on case to case basis but it is a very serious issue. Once called the noblest profession where doctors were considered next to God! is on the anvil now. It is the result of withering away of the professional values of this profession. Everyone is suspicious about anything being suggested by doctors. Masses are loosing faith and talking ill about the profession. This change in mindset is on the rise probably because of –


(1) The corporatisation of medical world. Huge investments demanding huge returns.


(2) Professional incompetence. Inspite of super specialisations and voluminous study the plight of patient doesn’t get uplifted commensurate to the degree achieved by the doctor.


(3) Rising Diagnosis Disability. Inspite of tremendous improvements in diagnostic methods the diagnosis remains the most oblivious part of treatment. “Test par Test par Test” – “Baste par Basta” – yet the disease is not diagnosed. टेस्ट पर टेस्ट पर टेस्ट- बस्ते पर बस्ता – फिर भी बीमारी का पता नहीं।


(4) The Profession has become puppet in the hands of medicine  manufacturers and diagnostics labs because of money power. The bulk of money lies with the above two and therefore doctors are dancing to the tune played.


(5) The upward trend for surgery even in minuscule issues is the result of attempt of power capturing by doctors. Once a surgery is done, the doctor become the ultimate powerful authority and then everyone dances to his/her tune.


(6) The professional opinion is diluted to meet the expectations of management and executives in Corporate hospitals. The focus here is on the paying capacity of the patient and not the problem of the patient.


(7) The entire medicine system is only functioning to suppress or control symptoms with side effects. The inability to cure any health issue causes inbuilt professional harassment and a feeling of incompetence within the doctors.


(8) Rampant use of steroids causing serious side effects and permanent damage to various organs has further tarnished the image of medicine system.


(9) Growing usage of immunosuppressants has resulted in further downgrading the medical system. The word ‘Autoimmune’ is a misnomer coined to blame Immunity in order to hide the inability of medicine system to deal with such diseases.


(10) Today most of the true medical professionals believe at the heart of heart that the existing medicine system is unable to provide relief to humanity in any health issue including infection.


Abraham Lincoln said about deception: “You can fool all the people some of the time and some of the people all the time, but you cannot fool all the people all the time”.


It is the right time for the medical professionals, medicine manufacturers and diagnostic professionals to review the facts on ground and do something positive to save their withering image. If proper action is not initiated now, the days are not far when doctors will be afraid in going to hospitals and will be walking on street with armed guards and z-class security.



Food for ?

Sudden deaths of Mr. Anil Madhav Dave & Mrs Reema Lagoo in Best Hospitals???

 

Recent deaths of both the prominent personalities have been bugging my mind and raising questions about the medical system being followed by everyone.

 

On 18 May 17, Mr Anil Madhav Dave, 60 years-felt uneasiness at his Safdarjung Road residence and was taken to AIIMS at 08:45 AM and was declared dead due to cardiac arrest at 09:45 AM. He was alive and reached hospital in time. AIIMS is believed to be ‘Mecca Madina’ of modern medicine system. The hospital has everything which can keep a body alive for days without heart and lungs. This procedure is adopted during open heart surgery and heart transplants. But, why Mr Dave could not be saved from Death?

 

On 17 May evening 7 PM, Reema  Lagoo, 59 Yrs was shooting for the 200 episode of “Naamkaran”. She felt uneasiness at 9 PM while winding up from the set. She was completely fine till 1 AM on 18 May, when she complained of chest pain. She was taken to Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital in Mumbai. She reached hospital in time but declared dead at 03:15 AM due to cardiac arrest. Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital in Mumbai is again considered to be best equipped hospital with latest technology, no where less than AIIMS. But, still Mrs. Reema Lagoo could not be saved from death.

 

These eminent personalities reached in time, the best of hospitals in India. But, could not be saved from death due to cardiac arrest inspite of availability of best of medical professionals, latest technological equipments, best of medicines. It is very clear that no one can be saved from death. It will take place at scheduled time, place and with destined cause. Then-

 

(1) Why the misnomer that, had the patient reached in time, would have survived, is being propagated to the whole world?

 

(2) Why do the doctors threaten and warn patients that if they use any other medication, then they may not be responsible? Are they responsible anyways?

 

Everyone must understand that Birth and Death is an exclusive event independent of any worldly interference. Do not get misguided by anyone. No one can save anyone from these two events. But, there is so called ‘LIFE’ within these events. The life is meant to be lived to it’s fullest. It can only be lived if you are healthy, that means your body is not undergoing through any form of pain; agony and sufferings. We at Zyropathy endeavour to eliminate- Pain; Agony and Sufferings from the life of people by using Zyro Naturals and Food Supplements.

 

Our Vision- Live Healthy & Die Healthy.

 

Our Mission – Eliminate Pain; Agony & Sufferings from life of people.

 

For more information visit- www.zyropathy.com

 

For Query Contact No.-
8882221871, 8882221817, 9910009031
“Zyropathy – New Era Healing System”.
“ज़ायरोपैथी” – नये ज़माने की स्वास्थ्य समस्यायों का विश्वसनीय उपाय।

अॉस्टियोपोरैसिस

अॉस्टियोपोरैसिस- यानि हड्डियों की कमज़ोरी (हड्डियों में भुरभुरापन) के मुख्य कारण हैं – खानपान, कार्य प्रणाली, लाइफ़ स्टाइल में बदलाव।

आज से 50 साल पहले, हिन्दुस्तानियों को यह समस्या नहीं होती थी। क्योंकि वे शुद्ध घी, दूध, दही, छाछ का पर्याप्त सेवन करते थे तथा सूर्य की रोशनी में कसरत और काम करते थे। परन्तु आज हम इनमें से कुछ नहीं करते, बल्कि इनका प्रयोग करने वालों को देहाती कहा जाता है। आज हम कोका कोला, बियर, डिब्बों में भरा केमिकली बनाया पेय, शराब, इत्यादि पीते हैं और रात भर जगते हैं तथा दिन भर सोते हैं। इसके अलावा फ्रिज में रखा भोजन बार- बार गरम कर कई दिन खाते हैं। या फिर फ़ास्ट फ़ूड व होटल से स्वादिष्ट पकवान मँगवा पेट में ठूँस लेते हैं जिनमें पौष्टिकता का भरपूर अभाव होता है। इसके अतिरिक्त फल, सब्ज़ियों और अनाज में अंधाधुँध फर्टीलाइजर, केमिकल और पेस्टीसाइड। दिन में काम करने वाले ए सी के अंदर, दिन में भी बिजली की रोशनी में काम करते हैं। यदि देखा जाय तो सबकुछ – खाना, पानी, हवा और सूर्य की रोशनी रहित काम का स्थान अशुद्ध है। यही मॉडर्न लाइफ़ स्टाइल है। इस तरीक़े के ज़हरीले खानपान और कार्य प्रणाली में कैसे किसी की हड्डियाँ मज़बूत हो सकती हैं।

आज सभी के घुटने, कमर और गर्दन में परेशानियाँ बढ़ रही हैं। यह समस्या औरतों में और भी ज्यादा उनकी अधिक सेडेन्टरी लाइफ़ स्टाइल तथा शारीरिक संरचना के कारण है। इसके अलावा कुछ दवायें (स्टेरॉयेड/इम्यूनो सप्रेसेंट) भी हड्डियों को कमज़ोर करने का काम करती हैं। यदि देखा जाय तो समूचा हिन्दुस्तान धीरे-धीरे घुटनों पर आ गया है और इसका श्रेय पश्चिमी सभ्यता के अनुसरण का परिणाम है।

इसके पहले भी मैंने ‘कोलेस्ट्रॉल षडयंत्र’ के बारे में लिखा था। आज मुझे हिन्दुस्तानियों में बढ़ते हुये अॉस्टियोपोरैसिस का कारण भी उसी षड्यंत्र का एक और एक्सटेंशन लगता है। आज से 50 वर्ष पहले, अमेरिका ने वेजीटेबल ऑयल बेचने के लिये हार्ट की आर्टरी ब्लॉकेज का कारण कोलेस्टरॉल बताया और हिन्दुस्तानियों के खानपान से घी-दूध हटा दिया। फलस्वरूप सभी की आदतें एवं मान्यतायें बदल गई हैं। अब जब अमेरिका ने कह दिया है कि आर्टरी ब्लॉकेज का कारण कोलेस्ट्रॉल नहीं है, फिर भी हिन्दुस्तानियों को घी-दूध का सेवन शुरू करने में 50 वर्ष और लग जायेंगे।

मौजूदा हालात में सभी को धीरे-धीरे शुद्ध घी-दूध का सेवन और कम से कम 20 मिनट सुबह की धूप में सैर करना अनिवार्य होना चाहिये। रात में जागना और दिन में सोना बंद कर, दिन में जागना और रात में सोना शुरू कर देना चाहिये, वरना घुटने, कमर और गरदन की परेशानियों के लिये तैयार हो जाइये।

परन्तु यदि आप किसी भी प्रकार की घुटने, कमर, डिस्क स्लिप, साइटिका, गरदन, सर्वाइकल, अॉस्टियोपोरैसिस इत्यादि परेशानियों से जूझ रहे हैं तो जायरोपैथी आज़मायें । जायरोपैथी एकमात्र ऐसा इलाज है जिसमें इन सभी परेशानियों को नेचुरल सप्लीमेंट्स एवं प्लाँट एक्सट्रैक्ट के कॉम्बिनेशन से रिपेयर किया जाता है।

अधिक जानकारी हेतु- www.zyropathy.com पर सम्पर्क करें।

जायरोपैथी-  नये ज़माने की स्वास्थ्य समस्याओं का अद्वितीय इलाज।


World Cancer Day

Today, the world is celebrating- “Cancer Day” – does it not sound strange? Different types of cancers will file their nominations for awards under various categories.
But do you know –
(1) Cancer does not come from outside the body.
(2) Cancer causing cells are integral part of our body and responsible for construction of body.
(3) The root cause of Cancer is low immunity, which is due to numerous reasons.
(4) Chemo & Radiation therapy- lowers body’s immunity and thus aids in spread of cancer.
(5) But, people are still searching cure for Cancer in Chemo & Radiation therapy. This is the reason the cure for Cancer could not be found till date.
(6) Solution for all our health issues lies in nature. Immunity is responsible for repair and maintenance of the body.
(7) The only way to eradicate Cancer is by strengthening Immunity System.
(8) Zyropathy cures Cancer by enhancing immunity. The possibility of relapse is very rare in patients cured of Cancer through Zyropathy.
(9) “Preventika” a unique product developed by Zyropathy helps in prevention from cancer.
(10) Along with prevention from Cancer, Preventika also protects the body from all other ailments. It virtually shields your body from all ailments.
For a Healthy life, free of ailments, adopt Zyropathy.
Share this message with everyone.
For more information  google Zyropathy or contact 9313741870.

विश्व कैंसर दिवस 

इंसान अजीब सा प्राणी नहीं लगता आपको? आज पूरा विश्व “विश्व कैंसर दिवस” मना रहा है। क्या बात है- सभी प्रकार के कैंसर अपनी-अपनी उपलब्धि बता रहे होंगे। अलग-अलग कैटेगरी में इनाम भी घोषित हो रहे होंगें।
क्या आपको किसी ने बताया कि –
(१) कैंसर शरीर के बाहर से नहीं आता?
(२) कैंसर पैदा करने वाले सेल सभी के शरीर में मौजूद हैं और इन्हीं ने हमारे शरीर का निर्माण किया है?
(३) कैंसर का एकमात्र कारण – प्रतिरोधक क्षमता की दुर्बलता है – जिसके बहुत कारण है।
(४) कीमो या रेडियेशन थिरैपी – प्रतिरोधक क्षमता को नष्ट करती हैं या दुर्बल बनाती हैं, जिससे कैंसर बढ़ने या फैलने में मदद मिलती है।
(५) फिर भी सभी कैंसर का इलाज – कीमो और रेडियेशन थिरैपी में ढूँढ रहे हैं। यही कारण है कि आजतक इसका इलाज नहीं मिला।
(६) हर परेशानी का इलाज प्रकृति में है। प्रकृति के अनुसार शरीर के रख-रखाव तथा मेंटेनेन्स का काम प्रतिरोधक क्षमता का है।
(७) कैंसर से बचने एकमात्र उपाय – प्रतिरोधक क्षमता को मज़बूत रखने या बढ़ाने से ही हो सकता है।
(८) जायरोपैथी कैंसर का इलाज प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर करती है। इस पद्धति द्वारा ठीक होने के बाद, पुनरावृत्ति की संभावना नही होती है।
(९) कैंसर से रोकथाम का एकमात्र उपाय-“प्रिवेन्टिका”, जायरोपैथी की एक अभूतपूर्व खोज है।
(१०) प्रिवेन्टिका शरीर को सिर्फ़ कैंसर ही नहीं अपितु अन्य सभी बीमारियों से बचाती है। वास्तविकता में यह आपके शरीर का सुरक्षा कवच है।
अत: जायरोपैथी अपनायें, स्वयं को स्वस्थ पायें।  मानव कल्याण के लिये सभी से शेयर करें।
अधिक जानकारी हेतु गूगल पर “ज़ायरोपैथी” सर्च करें या 9313741870 पर सम्पर्क करें।

कल ठाकुर साहेब आये थे

ठाकुर साहेब की उम्र 82 वर्ष है। वे पुलिस में उच्च अधिकारी के पद से रिटायर होने के बाद दो बार एम एल ए रहे, फिर सक्रिय राजनीति से सन्यास ले पार्टी के लिये काम कर रहे हैं। इस बार चुनाव की बात कर रहे थे। उन्होंने बताया कि सातवें कीमो के बाद थोड़ा स्टैमिना में कमी महसूस हो रही है, परन्तु जोश बरक़रार है।

ठाकुर साहेब का पिछले 6 महीने से कैंसर का इलाज चल रहा है। उन्होंने शुरूआत से ही सप्लीनेंट शुरू कर दिये थे। फलस्वरूप लगातार सात कीमो लेने के बावजूद भी शरीर का बाल भी बॉंका नहीं हुआ। उन्हें विश्वास है कि 8वीं और आख़री कीमो के बाद वे कैंसर मुक्त पूरी तरह स्वस्थ होंगे।

उन्होंने नियमित रूप से सप्लीमेंट खाये हैं, जिसके कारण आज भी उनमें वही विश्वास और जोश दिखाई देता है। उन्होंने हमें बताया कि जिस दिन से सप्लीमेंट शुरू हुये हैं, आज तक एक भी सप्लीमेंट नहीं छूटा, दवाई भी भले ही छूट गई हो।

आज सप्लीमेंट के कॉम्बिनेशन के माध्यम से जा़यरोपैथी लोंगों को स्वस्थ करने के साथ-साथ स्वास्थ्य के प्रति एक नया नज़रिया प्रदान करती है। हमें विश्वास है कि अधिक से अधिक लोग जा़यरोपैथी का प्रयोग कर स्वयं को स्वस्थ बनाये रखने का प्रयास करेंगे। ज़ायरोपैथी की दुर्लभ खोज “प्रिवेन्टिका” लोगों को रोकथाम प्रदान करने में अद्वितीय कार्य कर रही है।


Case of Mouth Cancer due Tobacco Under Treatment at Zyropathy

Category : Case Studies

One month back this case came to us. Person was a Tobacco addict. He developed this tumour in the left cheek and knew that it is cancer. Did not go to doctor because of the fear of getting diagnosed as Cancer. He had seen many of his Tobacco friends loosing their lives in severe pain, agony and sufferings caused due to surgery, chemo and radiation therapy.

We recommended him supplements and he sincerely took the supplements for a month. The change is evident in the second photo-

  1. There is no further growth of any sort.
  2. Secondary infection in the mouth is almost clear.
  3. The tumour and adjoining areas have softened and has become pinkish in colour.
  4. The nature of tumour appears homogeneous from it’s earlier state of heterogeneous.
  5. Now the tumour has well defined out line instead of it’s earlier deformed shape

We hope that the tumour size will slowly start shrinking. Seeing these improvements, we have reduced the quantity of supplements because of the financial constraints expressed by the patient.

Inspite of these improvements the patient is being advised by relatives and neighbours to go for surgery, chemo and radiation therapy because that is the only treatment of cancer. The patient under these pressure may decide any course of treatment. We feel that if the person continues with supplements we should be able to clear this from his body within next three months.

We wish him all the best and hope the individual continues with recommended supplements for one more month, which will show us reduction in tumour size.


Water Pollution Prevention by PREVENTIKA

​Good Morning Friends!
The habitat conditions are deteriorating day by day. It is slowly poisoning our body every day. The rise in lifestyle disorders is a clear indication of slow poisoning of our body. None of the existing products provide complete health solution, because “PREVENTION” of body from the exiting habitat deterioration was not in the agenda of any health product manufacturer. Protecting the body is individuals responsibility. Believe it or not, Preventika has the power of Nature for complete health solution. It is 100% natural and no side effects. Act now, before its too late.

https://youtu.be/vk-a0ujgM4c

Preventika is a synergistic combination of Curcumin, Tulsi , Belpatra, Sheesham , Gudmaar, Arjuna, Giloy and Dill. It is a powerful anti-oxidant, cardiac tonic, it improves blood circulation, it helps in preventing heart problems, it acts as antibiotic and natural steroid, it is anti-inflammatory, it acts as immune modulator, it helps in preventing cancer, it works as aphrodisiac, it helps in treating respiratory disorders, it is a cough reliever, it is used in internal edema, it is used as a diuretic, it is an anti-diabetic drug, it works as an antacid, it is used in the treatment of gout, it helps in preventing Alzheimer and it also helps in bone formation & strengthening.


Happy New Year 2018 – Zyropathy

Zyropathy Healthcare Pvt. Ltd. wishes you a very happy and prosperous New Year 2018


35 साल बाद

कल शाम दिल्ली में क्लास गेटटूगेदर में 8 लोग एकत्रित हुये। बहुत अच्छा लगा। कुछ से तो 35 साल बाद मुलाक़ात हुई। सब कुछ बदल चुका था, परन्तु एहसास वही थे।  इतने वर्षों बाद भी वही टिड्डी, घोया, चीनी, डंग, डमरू, मच्छर, झुर्री और पांडे। वही आर आर पांडे सर, सेठी सर, श्रीवास्तव सर, एगबर्ड सर…. । बातचीत में हम सब भूल गये थे कि, हमारे अपने बच्चे उस उम्र से कहीं बड़े हो चुके हैं। मस्ती में हमें पता नहीं चला कि कब 12 बज गये।
बातचीत के दौरान टिड्डी ने बताया कि 2 साल पहले उसकी एन्जियोप्लास्टी हो गई है। सभी को बहुत आश्चर्य हुआ, क्योंकि जब टिड्डी आया था तो सभी ख़ुश हो गये थे कि टिड्डी अब टिड्डी नहीं रहा। परन्तु टिड्डी ने स्पष्ट किया कि जो कुछ भी हम देख रहे हैं वह मात्र बाहरी आवरण है, उसने ब्लेज़र के अंदर एक इनर, शर्ट और स्वेटर पहन रखा है। उसने यह भी बताया कि जब उसकी एन्जियोप्लास्टी हुई उस वक़्त वह अपनी यूनिट का सबसे तेज़ धावक था। वह प्रतिदिन 2-3 कि.मी. दौड़ने के साथ-साथ घंटे भर कसरत करता था। उसका खाना-पीना पूरी तरह सात्विक। बहुत ही नापतौल वाला जीवन और शरीर पर रत्ती भर फ़ैट नहीं। उसे कभी-कभी सीने में दर्द का तब एहसास होता था, जब वह अपने शरीर को झमता से अधिक थका देता था। उसने डॉक्टर को दिखाया, तो गहन जाँच का सिलसिला शुरू हो गया और होता भी क्यों नहीं, वह फ़ौज में ब्रिगेडियर जो था।
शुरूआती जाँच में कुछ नहीं निकला। सभी रिपोर्ट नार्मल थीं। फिर एन्जियोग्राफी में पता चला कि उसकी एक आर्टरी 80% ब्लॉक थी, अत: एन्जियोप्लास्टी कर दी गई। इससे आर्टरी तो खुल गई, परन्तु वह बची हुई ज़िन्दगी के लिये हार्ट पेशेन्ट बन गया। अब वह नियमित रूप से डॉक्टरों द्वारा सुझाई गई दवायें लेता है और समय-समय पर जाँच करवाता है। इसके कारण उसकी मेडिकल कैटेगरी डाउन हो गई है, जिसका प्रतिकूल प्रभाव उसके कैरियर पर पड़ेगा।
यह सुनकर मुझे बहुत दु:ख और आश्चर्य हुआ। दु:ख इस बात का हुआ कि काश! लोग अपने शरीर का ऑंकलन स्वयं कर पाते और आश्चर्य हुआ आज की अबोध मेडिकल साइन्स पर। मुझे विश्वास हो चुका है कि, आज के मेडिकल विज्ञान में सोच समाप्त हो चुकी है। हर चीज़ एक रूढ़िवादी परंपरागत सिस्टम में ढल गई है।
मेरे अनुसार ऐसी परिस्थितियों में एन्जियोप्लास्टी करना किसी जघन्य अपराध से कम नहीं था। मैंने उसे बताया कि 80% या 100% आर्टरी ब्लॉकेज में भी उसे कभी भी हार्ट अटैक नहीं होता, क्योंकि जैसे-जैसे इधर आर्टरी ब्लॉक हो रही थी वैसे-वैसे दूसरी तरफ़ से कोलैटरल्स डेवलप हो रहे थे। यह सभी को ज्ञात है कि आवश्यकतानुसार  प्रकृति स्वयं रास्ता बनाती है। चूँकि उसके शरीर को अधिक रक्त संचार की आवश्यकता थी, अत: उसके हार्ट में कोलैटरल्स का विकास     तेज़ी से हुआ। इस कारण नार्मल कंडीशन में कोई समस्या नहीं होती थी। इस प्राकृतिक प्रक्रिया से पूरा जीवन बिना किसी हार्ट की समस्या से निकल जाता। परन्तु इस एन्जियोप्लास्टी के कारण बची हुई ज़िन्दगी में हार्ट अटैक की संभावना  बढ़ गई है। जो दवायें आज उसे दी जा रही हैं, क्या वे आर्टरी ब्लॉकेज या हार्ट अटैक से उसे बचा सकती हैं? और यदि उत्तर हाँ है तो उसकी एन्जियोप्लास्टी की क्या ज़रूरत थी। कोई इमर्जेंसी नहीं थी, कुछ समय थोड़ी भागदौड़ कम करता और जब दवाओं से आर्टरी क्लियर हो जाती तो भाग दौड़ कर लेता। परन्तु एन्जियोग्राफी ने उसे जीवन भर के लिये कमजोर बना दिया, अब वह उतनी भी भागदौड़ कभी नहीं कर पायेगा जितना इलाज के पहले कर सकता था। लेकिन दुनिया में सभी इसे ही इलाज कहते हैं। क्या विडंबना है?
एन्जियोप्लास्टी करने के कारण, पुन: उसी के आसपास आर्टरी ब्लॉक होने की संभावना बढ़ जाती है। इस तथ्य का प्रमाण अनगिनत केस से उजागर होता है। एन्जियोप्लास्टी के बाद पहले कि तरह दौड़ना-भागना तो दूर, नार्मल ज़िन्दगी भी जीना मुश्किल हो जाता है। जीवन में बहुत से प्रतिबंध लग जाते हैं और आदमी बची हुई ज़िन्दगी के लिये हार्ट का पेशेन्ट बन जाता है। इसके अतिरिक्त एन्जियोग्राफी के बाद बंद आर्टरी खुलने से रक्त की प्राकृतिक सप्लाई चेन खुल जाती है, फलस्वरूप इमर्जेंसी में विकसित कोलैटरल्स धीरे-धीरे काम बंद कर देते हैं क्योंकि उनकी आवश्यकता समाप्त हो चुकी होती है। कुछ समय बाद जब पुन: ब्लॉकेज शुरू होता है, तो कोलैटरल्स उस प्रकार नहीं विकसित होते जैसे पहले हुये थे। पर्याप्त कोलैटरल्स ना विकसित होने से हार्ट पर ज़ोर पड़ता है, जिससे हार्ट कमज़ोर पड़ने लगता है और हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है।अत: किसी भी परिस्थिति में स्वास्थ्य सम्बंधी जानकारी एवं उचित विश्लेषण हेतु  सम्पर्क करें –

HEALTH is WEALTH – PROVED ONCE AGAIN

Chennai’s Iron lady is gone. But what silent message did she leave by… Take good care of your health.. no wealth can save you if you ruin your health…!
Drink enough water, stand in the sun, eat on time, listen to your body, stop being lazy, be brisk and stay active throughout the day…sleep properly during nights…fight your stress back with a smile..maintain your BMI..just be health conscious…
Take care of your body. Regular health check ups every year… every symptom must be thoroughly investigated and resolved. Invest in your body than investing in land or gold…I urge everyone of you to understand the importance of healthy living. Diseases ruin your Peace, health and wealth…make sure you do your best to fight it! Most of us are in 30’s or 40’s but this is when we lay our foundation for a healthy old age… Taking care of oneself is the least one could do to the society…
It is well said than done-“Prevention is better than Cure”. I have arrived at the best possible solution for prevention after working with this idiom for almost four decades. Now, it is possible to maintain your body free of ailments with the support of “Preventika“.
Preventika is a synergistic combination of potent herbal extracts of Curcumin, Bel, Sheesham, Gudmaar, Arjuna, Giloy, Tulsi and Soye/Dil. It is completely natural, organic and herbal.
I recommend everyone to use Preventika for maintenance of your body free from ailments.
Experience the Power of Nature in Prevention as well as Cure.
Preventika a day keeps, ailments Away”

इलाज तथा रखरखाव

इलाज तथा रखरखाव

इलाज और रखरखाव दोंनों अलग-अलग चीज़ें हैं। परन्तु, जब मैंने ज़ायरोपैथी की शुरुआत की तो मुझे यह समझ नहीं थी। जबकी फ़ूड सप्लीमेंट बनाने वाली विश्व की अग्रणी कम्पनी हमें बार-बार यह कह रही थी कि, फ़ूड सप्लीमेंट सिर्फ़ रख-रखाव के लिये बनाये जाते हैं ना कि इलाज के लिये। हमनें उनकी एक ना मानी, क्योंकि हमारे पास परिणाम थे। हमें समझ नहीं आ रहा था कि, वे ऐसा क्यों कह रहे हैं।

हम पेशेन्ट को फ़ूड सप्लीमेंट का कॉम्बिनेशन बताते हैं, जो लोग नियमित रूप से ईमानदारी से खाते, वो ठीक हो रहे थे। कुछ नहीं भी ठीक हो रहे थे, तो उनके सप्लीमेंट बंद करवा देते थे। परन्तु हम लगातार इस बात पर विचार करते रहे कि – एक ही बीमारी के दो व्यक्तियों को एक समान सप्लीमेंट देने के बावजूद एक ठीक हो जाता है और दूसरा नहीं, इसका क्या कारण होगा?

कई वर्षों के अथक प्रयास और गहन चिंतन से हमें एक विचार मिला। हम सभी जानते हैं कि, शरीर को सुचारू रूप से चलाने के लिये दो प्रकार के तत्वों की ज़रूरत पड़ती है –
(१) एसेन्शियल (आवश्यक)-जिसे हम बाहर से सप्लाई करते हैं

(२) नॉन-एसेन्शियल (अनावश्यक)-जिसे शरीर स्वत: आवश्यकतानुसार एसेन्शियल का प्रयोग कर बनाता है। यहाँ हम यह स्पष्ट करना चाहेंगे कि एसेन्शियल और नॉन-एसेन्शियल का यह मतलब नहीं है कि एसेन्शियल ही आवश्यक है और नॉन-एसेन्शियल नहीं। शरीर को सुचारू रूप से चलाने एवं चिरायु स्वस्थ बने रहने के लिये, एसेन्शियल तथा नॉन-एसेन्शियल दोनों ही बराबरी से आवश्यक हैं।

परन्तु यह निश्चित है कि यदि हम आवश्यकतानुसार एसेन्शियल नहीं देंगे तो नॉन-एसेन्शियल निश्चित ही नहीं बनेगा। थोड़े समय तक तो शरीर काम चला लेता है, परन्तु यदि लम्बे समय तक एसेन्शियल की कमी बनी रहती है, तो नॉन-एसेन्शियल बनाने वाला सिस्टम पूरी तरह समाप्त हो जाता है। परिणामस्वरूप बाद में यदि एसेन्शियल की सप्लाई शुरू भी हो जाती है, तो नॉन-एसेन्शियल नहीं बन पाता। जिसके कारण बीमारी में सुधार नहीं मिलता। फ़ूड सप्लीमेंट एसेन्शियल की कमी को पूरा कर देते हैं, परन्तु नॉन-एसेन्शियल के ख़राब हुये सिस्टम को पुन: रेजुविनेट नहीं कर पाते। अत: हम फ़ूड सप्लीमेंट के अतिरिक्त सोचने पर बाध्य हो गये।

परन्तु यह निश्चित है कि यदि हम आवश्यकतानुसार एसेन्शियल नहीं देंगे तो नॉन-एसेन्शियल निश्चित ही नहीं बनेगा। थोड़े समय तक तो शरीर काम चला लेता है, परन्तु यदि लम्बे समय तक एसेन्शियल की कमी बनी रहती है, तो नॉन-एसेन्शियल बनाने वाला सिस्टम पूरी तरह समाप्त हो जाता है। परिणामस्वरूप बाद में यदि एसेन्शियल की सप्लाई शुरू भी हो जाती है, तो नॉन-एसेन्शियल नहीं बन पाता। जिसके कारण बीमारी में सुधार नहीं मिलता। फ़ूड सप्लीमेंट एसेन्शियल की कमी को पूरा कर देते हैं, परन्तु नॉन-एसेन्शियल के ख़राब हुये सिस्टम को पुन: रेजुविनेट नहीं कर पाते। अत: हम फ़ूड सप्लीमेंट के अतिरिक्त सोचने पर बाध्य हो गये।

फ़ूड सप्लीमेंट के अलावा हमारे पास दो विकल्प थे- पहला एलोपैथिक दवायें और दूसरा प्राकृतिक हर्बल एक्सट्रैक्ट। एलोपैथिक दवाओं के बारे में सभी जानते हैं कि-
(१) सभी दवाओं का साइड इफ़ेक्ट है, एक बीमारी का इलाज करवाने पर दूसरी बीमारी गिफ़्ट में मिलती है

(२) दवाओं से सिर्फ़ लक्षण ठीक होता है, बीमारी में कोई लाभ नहीं मिलता

(३) चूँकि कुछ जेनेरिक दवायें सस्ती मिलती हैं, तो लोगों को लगता है कि यह सस्ता इलाज है, परन्तु यह सिर्फ़ भ्रम मात्र है, क्योंकि इनसे सिर्फ़ लक्षण दबते हैं, बीमारी तो बढ़ती रहती है।

इन कारणों के मद्देनज़र हमनें प्राकृतिक हर्बल प्रोडक्ट का चुनाव किया, क्योंकि
(१) इनके कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं हैं

(२) इनसें बीमारियाँ जड़ से ठीक होती हैं

(३) इनकी क़ीमत थोड़ी अधिक लगती है, परन्तु लाभ कहीं अधिक और स्थाई है।

यही कारण है कि आजकल हम लोगों को सप्लीमेंट के साथ कुछ प्राकृतिक हर्बल एक्सट्रैक्ट से बने प्रोडक्ट भी दे रहें हैं। जिन लोगों ने फ़ूड सप्लीमेंट के साथ-साथ ज़ायरो हेल्थ केयर के भी प्रोडक्ट का सेवन किया है, वहाँ बहुत अच्छे परिणाम आ रहे हैं। लोग बहुत ख़ुश हैं और हमें इस कार्य को इसी प्रकार मानव हित में आगे बढ़ाने में सहयोग कर रहे हैं।

हमारे इस कल्याणकारी प्रयास की सभी सराहना कर रहे हैं, जिससे हम अत्यंत उत्साहित हैं और मानव कल्याण के प्रति प्रतिबद्ध हैं।

ज़ायरोपैथी – नये ज़माने की स्वास्थ्य समस्याओं का विश्वसनीय उपाय।

अधिक जानकारी हेतु सम्पर्क करें-
9313741870/9310741871/8882221871/011-47455435/ www.zyropathy.com/zyropathy@gmail.com


Hello world.