कल ठाकुर साहेब आये थे

ठाकुर साहेब की उम्र 82 वर्ष है। वे पुलिस में उच्च अधिकारी के पद से रिटायर होने के बाद दो बार एम एल ए रहे, फिर सक्रिय राजनीति से सन्यास ले पार्टी के लिये काम कर रहे हैं। इस बार चुनाव की बात कर रहे थे। उन्होंने बताया कि सातवें कीमो के बाद थोड़ा स्टैमिना में कमी महसूस हो रही है, परन्तु जोश बरक़रार है।

ठाकुर साहेब का पिछले 6 महीने से कैंसर का इलाज चल रहा है। उन्होंने शुरूआत से ही सप्लीनेंट शुरू कर दिये थे। फलस्वरूप लगातार सात कीमो लेने के बावजूद भी शरीर का बाल भी बॉंका नहीं हुआ। उन्हें विश्वास है कि 8वीं और आख़री कीमो के बाद वे कैंसर मुक्त पूरी तरह स्वस्थ होंगे।

उन्होंने नियमित रूप से सप्लीमेंट खाये हैं, जिसके कारण आज भी उनमें वही विश्वास और जोश दिखाई देता है। उन्होंने हमें बताया कि जिस दिन से सप्लीमेंट शुरू हुये हैं, आज तक एक भी सप्लीमेंट नहीं छूटा, दवाई भी भले ही छूट गई हो।

आज सप्लीमेंट के कॉम्बिनेशन के माध्यम से जा़यरोपैथी लोंगों को स्वस्थ करने के साथ-साथ स्वास्थ्य के प्रति एक नया नज़रिया प्रदान करती है। हमें विश्वास है कि अधिक से अधिक लोग जा़यरोपैथी का प्रयोग कर स्वयं को स्वस्थ बनाये रखने का प्रयास करेंगे। ज़ायरोपैथी की दुर्लभ खोज “प्रिवेन्टिका” लोगों को रोकथाम प्रदान करने में अद्वितीय कार्य कर रही है।


Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of